Author: Azeem

चालान

सावन-भादो की मूसलाधार बारिश के बाद सोशल मीडिया में कुछ लोगों द्वारा ताबड़तोड़ पोस्ट से जो बारिश हुई उससे कई लोग अनजाने में फिसलकर कमेंट बॉक्स में जा गिरे। कुछ लोग तो ना चाहकर भी घिसटते हुए इनबॉक्स की नाली में...

मोहब्बत है जो मैं कह दूँ

मोहब्बत है जो मैं कह दूं तो कैसा करोगे तुम मुझे बाहों में भर लोगे या बस आहें भरोगे तुम इज़हारे-इश्क़ हो गर आसां तो फिर कैसी मोहब्बत है हुई जो दुनिया ये दुश्मन तो भी क्या चाहा करोगे तुम यहाँ...

उम्मीद की रोशनी

उम्मीद की रौशनी दिल में तुम भरो यारो लोग तुम्हें याद रखें ऐसा कुछ करो यारो कौन इंसां है ज़माने में जो खुश नहीं होता सही वक़्त में खबर लेकर फ़िक्र करो यारो उम्र भी देखो कट रही है सब्जियों की...

ऐसी है मोहब्बत

यूँ लगता है जैसे कि वो चाँद खफा है दूर है तो क्या हुआ उसे मुझसे वफ़ा है दिल तोड़ रूठ जाना उसे बहुत भाता है दुनिया को बहकाना उसे बहुत आता है पास हैं इतने कि साँसे बसती हैं हमारी...

मोहब्बत है मुझे ऐसी

तुम्हें कुछ दूर जाना है, मुझे कुछ पास आना है, मुझे इतना बताना है, मेरा रिश्ता पुराना है। मोहब्बत है मुझे ऐसी, हर एक शय में तुम्हें देखूँ, फ़लक का चाँद हो तुम तो, तुम्हें सबको मनाना है।। मुनासिब ये नहीं...

शहज़ादी

हर मुलाक़ात के साथ तुम मुझमें समाते जा रही हो, अनकही कहानी बनकर पन्ने पर उकेरी जा रही हो। तुम्हारे साथ विताये हर उड़ते पल यादों के गुलदस्ते बनकर निशानी छोड़ रहे हैं। बदलते हालात और बदलती जगहों पर तुम तितली...

कीमती तोहफ़ा

एक सात, जैसे तारीख नहीं तुम्हारा साथ हो, हाँ तुम्हारा साथ ही तो लेकर आई थी यह तारीख… पहली मुलाकात कुछ ऐसी मुकम्मल हुई मानो एक दिन में सदियों की ज़िन्दगी जी ली हो। अपनी इस मुख़्तसर सी ज़िन्दगी में मैंने...

यादें दिसम्बर

यादें दिसम्बर यादें जो अक्सर अपना रंग दिखाती हैं, गुजर जाती हैं पर याद बहुत आती हैं। हम भी खोएं हैं उसकी यादों में यारों, और वो दिसंबर बनके यूँ गुजर जाती है। मिल जाये ज़रा खैर-ओ-खबर हमें भी उसकी जो...

कोई तो हो

कोई तो हो जो आपकी हर अदा पर ताली बजाये। कोई तो हो जो आपकी हर बात पर भी मुस्कुराये कोई तो हो जो आपकी हर खता माफ़ कर दे कोई तो हो जो आपके हर मर्ज की दवा बन जाए...