हर मुलाक़ात के साथ तुम मुझमें समाते जा रही हो, अनकही कहानी बनकर पन्ने पर उकेरी जा रही हो। तुम्हारे साथ विताये हर उड़ते पल यादों के गुलदस्ते बनकर निशानी छोड़ रहे हैं। बदलते हालात और बदलती जगहों पर तुम तितली...